ऊखे सूखे राह ले-ले के

ਫ਼ਰਹਤ ਅੱਬਾਸ ਸ਼ਾਹ

ऊखे सूखे राह ले-ले के
पीड़ां हेठ पनाह ले-ले के
ओस नूओं याद कर्रां तय रविवां
छोटे छोटे साह ले-ले के
बाक़ी कुझ नईं बुचिया मेरा
अपने आप दी हाह ले-ले के
लभदां फ्रां अदालत कोई
दिल दे ज़ख़म गवाह ले-ले के
फ़रहतध शाह इसी ओड़क मरना
दर्दां दे नाल फाह ले-ले के

Read this poem in Romanor شاہ مُکھی

ਫ਼ਰਹਤ ਅੱਬਾਸ ਸ਼ਾਹ ਦੀ ਹੋਰ ਕਵਿਤਾ